रक्षाबंधन का त्योहार (Raksha Bandhan in Hindi)

रक्षाबंधन का त्योहार (Raksha Bandhan in Hindi)




रक्षाबंधन का त्यौहार । (About Raksha Bandhan in Hindi)
रक्षाबंधन का त्योहार हर साल श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया ŕजाता है। इसके पहली वाली पूर्णिमा गुरु-पूर्णिमा थी, जो गुरु और शिक्षकों को समर्पित थी। उसके पहले बुद्ध पूर्णिमा और उसके भी पहले चैत्र-पूर्णिमा थी। तो इस पूर्णिमा को श्रावण-पूर्णिमा कहते हैं, रक्षा-बंधन का यह त्यौहार भाई-बहन के प्रेम और कर्तव्य के सम्बन्ध को समर्पित है।

The festival of Raksha Bandhan is celebrated every year on the day of Shravan Purnima. Its first full moon was Guru-Purnima, which was devoted to gurus and teachers. Before that Buddha Purnima and even before that was Chaitra-Purnima. So this full moon is called Shravan-purnima, this festival of defense is dedicated to the relationship of brother and sister's love and duties.


रक्षाबंधन का महत्व ।( Importance of Raksha Bandhan in Hindi)


रक्षाबंधन पर बहन अपने भाई को राखी बांधती हैं। भाई अपनी बहन को सदैव साथ निभाने और उसकी रक्षा के लिए आश्वस्त करता है। यह परम्परा हमारे भारत में  काफी प्रचलित है, और ये श्रावण पूर्णिमा का बहुत बड़ा त्यौहार है। आज ही के दिन यज्ञोपवीत बदला जाता है।

On Rakshabandhan, sister builds Rakhi to her brother. Brother reassures her sister to be with her always and protect her. This tradition is very popular in our country, and this is a great festival of Shravan Purnima. Today, Yajnavav is changed.

रक्षाबंधन अर्थात् संरक्षण का एक अनूठा रिश्ता, जिसमें बहनें अपने भाइयों को राखी का धागा बाँधती है, लेकिन मित्रता की भावना से भी यह धागा बाँधा जाता है, जिसे हम दोस्ती का धागा भी कहते हैं। यह नाम तो अंग्रेज़ी में अभी रखा गया है, लेकिन रक्षा बंधन तो पहले से ही था, यह रक्षा का एक रिश्ता है।

Rakshabandhan, a unique relationship of conservation, in which the sisters tie the thread of Rakhi to their brothers, but this thread is tied with the spirit of friendship, which also we call the thread of friendship. This name is still kept in English, but the defense was already there, it is a relationship of defense.


इसलिए, रक्षा बंधन ऐसा त्यौहार है, जब सभी बहनें अपने भाइयों के घर जाती हैं,और अपने भाइयों को राखी बांधती हैं, और कहती हैं "मैं तुम्हारी रक्षा करूंगी और तुम मेरी रक्षा करो"। और ये कोई ज़रूरी नहीं है, कि वे उनके अपने सगे भाई ही हों, वह अन्य किसी को भी राखी बाँधकर बहन का रिश्ता निभाती हैं।तो ये प्रथा इस देश में काफी प्रचलित है, और ये श्रावण पूर्णिमा का बहुत बड़ा त्यौहार है। आज ही के दिन यज्ञोपवीत बदला जाता है।

Therefore, Raksha Bandhan is such a festival, when all the sisters go to their brothers' homes, and bind their brothers to Rakhi, and they say, "I will protect you and you protect me" And it is not necessary that they should be their own brothers, they play the relationship of sister by sticking to anyone else. So this practice is very popular in this country, and this Shravan is a great festival of Purnima. Today, Yajnavav is changed.

रक्षाबंधन पर राखी बांधने की हमारी सदियों पुरानी परंपरा रही है। प्रत्येक पूर्णिमा किसी न किसी उत्सव के लिए समर्पित है। सबसे महत्वपूर्ण है कि आप जीवन का उत्सव मनाये। सभी भाईयों और बहनों को एक दूसरे के प्रति प्रेम  और कर्तव्य का पालन और रक्षा का दायित्व लेते हुए ढेर सारी शुभकामना के साथ रक्षाबंधन का त्योहार मनाना चाहिए।

Our centuries-old tradition of tying rakhi on Rakshabandhan has been old. Every full moon is dedicated to some celebration. The most important thing is that you celebrate life. All the brothers and sisters should celebrate the Raksha Bandhan festival with great luck, taking responsibility of protecting and protecting one's love and duty towards each other.


<---------------------------------------------------------------------------------------------------------------->

Make A Static Website, Dynamic Website, E-commerce Website, Android APP, SEO , 
As- School, Shop, Institute etc... Cheap Rate.
Contact-+917257927319,+918541839684
Email- kjyotish888@gmail.com

Post a comment

1 Comments